Tere Mere Pal

Har Waqt Badalta Pal!

RSS 2.0

! जब भी करनी हो दिल की बात !

जब भी करनी हो दिल की बात दिल से कहो ये आँखे बया कर करेंगी वो समझ जायेगे अगर दिल में उनके हम है लब्ज कहने से घबरा जाता है वो कही बुरा माने ये सोच कर दिल भर आ जाता है जब आँखे बया करेंगी वो समझ जायेगे वरना वो सिर्फ हमारे दिल में नजर आयेगे ! Written by …Continue reading →

! हर कदम को सहारे की जरुरत होती !

तेरा साथ न होता ये बात न होती इस लंबे सफर की शुरुवात न होती कैसे जीते है जिंदगी को…ये जीना सिखा दिया राहों में बड़े ही कांटे थे…जिन पर चलना सिखा दिया हर उल्झन के भवर से…निकलना सिखा दिया होता है क्या जिना…ये जीना सिखा दिया अब चर्चे है तेरी बातों की…उन साथ उन याद की हर कदम को …Continue reading →

! मोहब्बत ये इकरार से होता है !

मोहब्बत ये इकरार से होता है वक़्त का दस्तूर ये प्यार से होता है बरसों लग जाते है…एक दूजे को समझने में वक़्त गुजरने पर हर यार से होता है कहता है कोई हमें सिर्फ तुझसे मोहब्बत है सनम ये एक से नहीं…हर यार से होता है वक़्त गुजरने पर महसूस किया है मोहब्बत ये इकरार से होता है ! …Continue reading →

! मिल कर तुझसे बिछुड़ना जरुरी था !

मिल कर तुझसे बिछुड़ना जरुरी था दो कदम साथ चले थे अब खुद संग जलना जरुरी था बड़ी ही लम्बी सफर है जिंदगी की जिनमे कुछ पल संग था तेरा… अब खुद ही चलना जरुरी था सब कुछ सीखा है संग तेरे अब खुद ही संभलना जरुरी था मिल कर तुझसे बिछुड़ना जरुरी था ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! वक़्त का ये खेल अजीब है !

वक़्त का ये खेल अजीब है जिस बात पे हँसते थे उसी से परेशान है कल जो आपने थे आज वो अंजान है कहते है सब अपने है जहां में जब की हम खुद ही मेहमान है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! रातों को नींद आती नहीं !

रातों को नींद आती नहीं कमबख्त अधूरे ख्वाब है… जो पूरी होते नहीं नसीब वाले है जो सो पाते है चैन से एक हम है जो सोते ही डर जाते है ख्वाब है जो कमबख्त पूरी होती नहीं ! Written By: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! भ्रम होता है जो दिखता है आसानी से !

भ्रम होता है जो दिखता है आसानी से ख्वाब तो अपना है जो दिखता आसानी से कर्म की राहों में बड़े ही कांटे होते है नहीं मिलता यहाँ कुछ भी आसानी से नाकामियां मिलती है बार बार ख्वाब यूँ मिलता नहीं आसानी से इसमें सब की लगन होती है ख्वाब हमारी पर सब की तपस होती है भ्रम होता है …Continue reading →

! मोहब्बत है क्या न जाना किसी ने !

मोहब्बत है क्या न जाना किसी ने जो मिलता यहाँ सभी को है जब पास में हो हम ढूंढ़ते जहा में है जो दिखता यहाँ नसीब से है जब यकीं होता है खो देने के बाद तब दीखता यहाँ सभी को है मोहब्बत है क्या न जाना किसी ने जो मिलता यहाँ सभी को है ! Written by: Abhishek Verma …Continue reading →

! नैना बरसे है…मन क्यूँ तरसे है !

नैना बरसे है…मन क्यूँ तरसे है नैना बरसे है…मन क्यूँ तरसे है कैसी है ये तेरी बेक़रारी… मन ना लागे…अब तुम बिन हमारी मन ना लागे…अब तुम बिन हमारी क्या वो पल थे…है कितनी पुरानी क्या वो पल थे…है कितनी पुरानी वो यादे वो तेरी जुबानी जिने न दे….मेरे दिलबर जानी नैना बरसे है…मन क्यूँ तरसे है नैना बरसे है…मन …Continue reading →

! कैसे कहे वफ़ा होती है क्या !

कैसे कहे वफ़ा होती है क्या यहाँ तो दिखता सब अलग सा है जब भी देखा साथ किसी को होता सब गलत सा है…. साथ देते है दिल में बसाने वाले हम दिल में तो है पर सताने वाले वफ़ा है या बेवफाई का मंजर मिलते नहीं यहाँ प्यार निबाने वाले कैसे कहे वफ़ा होती है क्या यहाँ तो दिखता …Continue reading →

Statcounter