Tere Mere Pal

Har Waqt Badalta Pal!

RSS 2.0

! इश्क पे न जोर दिल का !

इश्क पे न जोर दिल का हर पल एक शोर होता है लबों पे कुछ दिल में कुछ और होता है ये सब को खबर होता है दिल में कुछ और नजरो में कुछ और होता है ! Written by: Abhishek Verma. FacebookTwitterGoogle+

! सज धज हो के तैयार !

सज धज हो के तैयार चले हैं अब मेरे यार, पाने अब दिल का करार साथियों संग सनम के द्वार | घड़ी इन्तजार की करीब आ रही है हर पल बदल रहा है, धड़कने भी थम रही है, सारा आलम खुशी में और कलियाँ भी खिल रही है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! दौड़ हमारे संग जमाना चलता रहा है !

पिने पिलाने का दौड़ चलता रहा है भूलने भुलाने का दौड़ चलता रहा है काफिलों में साथी बहुत है मगर साथी संग बिछुडरने का दौड़ चलता रहा है बदलता रहा जमाना हम बदले तो क्या दौड़ हमारे संग जमाना चलता रहा है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! घड़ी इन्तजार कि असान न होगी !

घड़ी इन्तजार कि असान न होगी अब मोहब्बत कि पहचान न होगी जब भी करोगे सामना खुद का दर्दे दिल कि अरमा कम न होगी ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! सजी है महफ़िल हर बात अपनी है !

रात अपनी है बात अपनी है सजी है महफ़िल साथ अपनी है गैरों का न काम यहाँ जज्बात अपनी है हर दिल कि धड़कन पहचान अपनी है सब के लबों पे ये बात अपनी है सजी है महफ़िल हर बात अपनी है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! उफ ये मोहब्बत !

उफ ये मोहब्बत…. दिल में दर्द आखों में पानी ये कैसी अधूरी कहानी सब कुछ अब बैमानी लगता है लबों पे हसी लोगो कि जुबानी फिर भी दिल को भी सुहानी लगता है ! Written by : Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! पास न होंगे कभी सनम तो क्या !

पास न होंगे कभी सनम तो क्या मंजिले आसां न हो कभी सनम तो क्या धड़कनो में तेरी घर बना जायेगे होंगे न कभी रुबरु तुमसे फिर भी हर जगह नजर आयेगे ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! एक कसम एक वादा !

एक कसम एक वादा…निभाते जा रहे है रहो पे खड़े तन्हा…गुनगुनाते जा रहे है वो अपनी जिंदगी सवारे जा रहे है हम खुद को सब से भुलाते जा रहे है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! धड़कनो में तेरी घर बना जायेगे !

पास न थे कभी हम सनम तो क्या मंजिले आसां न थे कभी ऐ सनम तो क्या धड़कनो में तेरी घर बना जायेगे न होंगे रुबरु तुमसे कभी फिर भी हर जगह नजर आयेगे ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+

! वक़्त गुजर जाता है !

वक़्त गुजर जाता है…सभी बिछुड़ जाते है जिंदगी के सफ़र में…पल सरे छूट से जाते है हर पल जिनकी यादे…एक अहसास जगाती है न रहे संग तो क्या…जीने कि याद दिलाती है ! Written by: Abhishek Verma FacebookTwitterGoogle+